5g Service In India Launch | क्या होंगे 5g प्लान जाने और कितनी होगी इंटरनेट स्पीड?

जैसा की आप जानते है की 01 अक्टूबर 2022 से प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी के द्वारा 5g service in india मे सुभारम्भ किया गया है 5g Services सुरू करने से पहले अलग-अलग चरणों में सफल प्रयोगों के बाद भारत में पांचवीं पीढ़ी की वायरलेस दूरसंचार सेवा की शुरुआत हो गई। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को इस सेवा की विधिवत शुरुआत कर दी है और अपना देश संचार के नए युग में प्रवेश कर गया है। मोटे तौर पर इंटरनेट सेवा की रफ्तार कम से कम दोगुनी हो जाएगी।

भारती एयरटेल ने बाजी मारते हुए दिल्ली, मुंबई, वाराणसी और बेंगलुरु सहित आठ शहरों में 5G सेवाएं शुरू की है। प्रतिद्वंद्वी कंपनी रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड ने अगस्त में ही कह दिया था कि वह दिल्ली, मुंबई, चेन्नई, कोलकाता जैसे प्रमुख शहरों में दिवाली तक और अगले साल दिसंबर तक पूरे भारत में अपनी 5G सेवाओं को शुरू करने के लिए 2 लाख करोड़ रुपये का निवेश करेगी।

5g service in india

जाहिर है, 5G सेवाओं का भारत में अगले साल ठीक-ठाक प्रसार हो जाएगा। अगले साल बाकी दूरसंचार कंपनियों को भी 5G सेवा के साथ मैदान में उतरना होगा। आज डाटा और तेज नेटवर्क की जरूरत तेजी से बढ़ रही है, लोग नहीं चाहते कि नेटवर्क में किसी तरह की बाधा रहे या किसी फोटो या वीडियो को देखने के लिए सेकंड भर भी इंतजार करना पड़े। वैसे, हमें ध्यान रखना चाहिए कि 5G सेवा के मामले में भारत कुछ पिछड़ गया है। एक रिपोर्ट के अनुसार, जून 2022 तक लगभग 70 देशों में 5G नेटवर्क शुरू हो गया था। साल 2020 के मध्य तक 38 देशों में 5G की पहुंच हो गई थी।

कहने की जरूरत नहीं है कि कोरोना महामारी की वजह से भी विलंब हुआ है। दुनिया में 5जी की शुरुआत को चार साल भी नहीं हुए हैं, लेकिन इस साल के अंत तक 5G सेवा की पहुंच एक अरब से ज्यादा लोगों तक हो जाएगी। एक अरब 4जी यूजर्स तक पहुंचने में चार साल लग गए थे और एक अरब 3जी यूजर्स तक पहुंचने में 12 साल लगे थे।

5g Service In India Latest News

मतलब अब दुनिया में नई तकनीक का प्रसार काफी तेजी से होने लगा है। अमेरिका और यूरोप 5जी सेवा में सबसे आगे हैं। हालांकि, दक्षिण कोरिया वह देश है, जिसने सबसे पहले 5जी नेटवर्क को तैनात किया था। उम्मीद है, 2025 तक, दक्षिण कोरिया में लगभग 60 प्रतिशत मोबाइल धारक 5जी सेवा ले रहे होंगे। भारत में देरी हुई है, उसके लिए पूर्व में हुआ भ्रष्टाचार, नौकरशाही की उदासीनता और अनावश्यक मंजूरी प्रक्रियाएं जिम्मेदार हैं। अभी भी इस दिशा में बहुत कुछ करने की जरूरत है।

UPSSSC PET Admit Card 2022 जारी | यहाँ देखें

जब तमाम सेवाओं का ऑनलाइन होना अनिवार्य हो गया है, तब तेज नेटवर्क की अनिवार्यता निर्विवाद है। डाटा को तेजी से साझा करना, परस्पर जोड़ना और सुरक्षा सुनिश्चित करने में भी 5G की सहायक भूमिका होगी। 5G सेवाओं से स्वास्थ्य देखभाल और शिक्षा से लेकर कृषि और आपदा निगरानी तक सभी क्षेत्रों में क्रांतिकारी बदलाव आना तय है।

हम सब जानते हैं कि वर्क फ्रॉम होम को तेज इंटरनेट ने ही साकार किया है, वरना किसने सोचा था कि घर बैठकर भी दफ्तर के सारे काम हो सकते हैं? 4G सेवा का कमाल हम देख चुके हैं और अब 5G की बारी है। चलते-फिरते कहीं से भी काम आसान हो जाए, कोई ऐसी जगह शेष न रहे, जहां नेटवर्क की पहुंच न हो।

अभी भी कई स्थान शहरों में ऐसे हैं, जहां कमजोर नेटवर्क की शिकायत है। कहीं कॉल में भी परेशानी होती है, तो कहीं डाटा नेटवर्क बाधित हो जाता है। 4G के समय में 2G की गति वाले इलाके भी हैं और दूरसंचार क्षेत्र में सेवा भी विगत महीनों में महंगी हुई है। मतलब, जरूरी है कि कोई सेवा केवल कागज पर न रहे, जमीन पर भी उतरे।

5g service क्या है?

भारत 5G प्रौद्योगिकी की ओर कदम बढ़ा चुका है। केंद्रीय आईटी मंत्री अश्विनी वैष्णव ने भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान मद्रास में स्थापित एक परीक्षण नेटवर्क पर पहली 5G कॉल की, तब भारत ने संचार के क्षेत्र में एक बड़ी कामयाबी हासिल की। यह परीक्षण सफल रहा, यानी आने वाले समय में भारत में 5G सेवाओं का विस्तार तेजी से होगा। सबसे अच्छी बात है कि इस तकनीक के विकास में हमारे वैज्ञानिकों और इंजीनियरों का ही सर्वाधिक योगदान है।

तकनीकी विकास में जितनी तेजी आएगी, भारत के विकास को उतना ही बल मिलेगा। वैसे भी यह ध्यान देने की बात है कि इस तकनीक में भारत दुनिया में विकसित देशों से पीछे चल रहा है। कुछ देशों में साल 2019 से ही 5G की शुरुआत हो चुकी है।एक अनुमान है कि साल 2025 तक दुनिया में एक अरब से ज्यादा लोग 5जी का इस्तेमाल करने लगेंगे, लेकिन तब तक 6G की उपलब्धता भी बढ़ जाएगी।

दरअसल, कोरोना महामारी की वजह से 5जी तकनीक के मामले में देरी हुई है। पिछले साल ही यह घोषणा हुई थी कि 5G स्पेक्ट्रम की नीलामी 2022 के अप्रैल से मई के आसपास होगी। लेकिन इस काम में कुछ देरी हुई है। केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने भी इस साल की शुरुआत में बजट पेश करते हुए स्पेक्ट्रम नीलामी की बात कही थी। आशा है कि बहुत जल्दी ही पांचवीं पीढ़ी की इन सेवाओं के लिए नीलामी का आयोजन होगा और कुछ ही महीनों में 5G सेवा आम लोगों के हाथों में पहुंच जाएगी।

5G Service In India 13 Cities | 5g सर्विस के 13 शहर

पहले चरण मे भारत मे 13 शहरो मे 5G Service को किया गया है। जिसमे कुछ चुनिन्दा शहरो को रखा गया है वे शहर है जैसे- दिल्ली, मुंबई, चेन्नई, कोलकाता, बेंगलुरु, चंडीगढ़, गुरुग्राम, हैदराबाद, लखनऊ, पुणे, गांधीनगर, अहमदाबाद जामनगर जैसे शहरो मे 5g Service को लॉंच किया गया है।

5G Network Benefits | 5g नेटवर्क के फायदे क्या है

5g Network हमे 4g की अपेक्षा मे 2 गुनी स्पीड प्रदान करता है आप इस नेटवर्क की मदद से बड़ी से बड़ी फाइल को चंद सेकेंडो मे डाउनलोड कर सकते है और ऑनलाइन विडियो स्ट्रीमिंग बीना रुकावट के आसानी से देख सकते है 5g नेटवर्क मे अधिकतम स्पीड 10gbps तक हो सकती है जो 4g नेटवर्क से कही ज्यादा साबित होती है 5g Services इंडिया मे एक आधुनिक क्रांति ला सकता है

भारत में 5G नेटवर्क कब तक आ सकता है?

भारत मे 5g नेटवर्क 01 अक्टूवर 2022 से 13 शहरो मे लॉंच किया गया है

5G सर्विस क्या है?

इसके पूरी जानकारी इस पोस्ट मे आपको मिल जागी

4g की तुलना में 5g कितना तेज है?

4g की तुलना में 5g 100 गुना ज्यादा तेज है

5g की रेंज कितनी होती है?

5g की रेंज 1500 फीट तक होती है

5G सिम कब तक आएगा?

5G सिम अगली साल 2023 तक आ सकता है

Leave a Comment

%d bloggers like this: